भारत में, यदि आपके साथ यौन शोषण (ग़लत स्पर्श) या बलात्कार होता है तो पुलिस, अस्पताल और अदालत को आपकी मदद करनी चाहिए।